Top Connect

विंध्य महोत्सव में छाएगा लोकसंस्कृति का रंग

बघेली लोक गायन एवं नृत्य की होगी प्रस्तुति
35 लोक कलाकारों ने चयन के लिए दिए आॅडिशन
प्रस्तुति देने वाले कलाकारों की जल्द सूची होगी जारी
रीवा. रीवा के इंजीनियरिंग कालेज मैदान में तीन से पांच अप्रैल तक विंध्य महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। महोत्सव में स्थानीय कलाकारों को मंच उपलब्ध कराए जाने के उद्देश्य से मेडिकल कॉलेज ऑडिटोरियम में तीन दिवसीय बघेली लोक गीत,गायन एवं लोक नृत्य प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। तीन दिवसीय चयन प्रतियोगिता में कुल 35 लोक कलाकारों ने प्रस्तुतियां दीं।  प्रस्तुति के क्रम में 15 लोक कलाकारों ने प्रस्तुति दी। इनमें से आठ वर्षीय उत्कर्ष पाण्डेय के एकल तबला वादन ने उपस्थित जनों का मन मोह लिया। जबकि लोक नृत्य प्रस्तुति में नैना सोनी और शगुन पाण्डेय की प्रस्तुतियां सराहनीय रही। 
15223361500.jpeg
बघेली समूह लोक गायन में सुषमा शुक्ला एवं साथी कलाकारों की बेलनहाई एवं सोहर ने समा बांध दिया। लोकगायन में सोहर, विवाह, बनरा, अंजुरी, गैलहाई, बेलनहाई, बघेली आल्हा एवं भगत तथा लोक नृत्यों में अहिरहाई एवं कोलदहका की प्रस्तुतियां हुई। प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में बघेली बोली के जानकार एवं कवि सूर्यमणि शुक्ला, लोककला पथक दल के नरेन्द्र मिश्रा एवं महेन्द्र सिंह तिवारी, बघेली कार्यक्रम आयोजन समिति के सदस्य प्रवीण पाठक, नगर निगम के पूर्व पीआरओ जगजीवनलाल तिवारी, समाजसेवी एहते शाम, योगेन्द्र शुक्ला, वीरेन्द्र द्विवेदी, डॉ. विभा श्रीवास्तव, विनोद तिवारी, राम नरेश तिवारी निष्ठुर सहित अन्य कला प्रेमी उपस्थित रहे। प्रतियोगिता में चयनित प्रतिभागियों को विंध्य महोत्सव में प्रस्तुति हेतु पृथक से सूचित किया जायेगा।

Latest News

Top Trending

Connected citizen rewa

  • Sidhi-DPRO-Rews