Top Connect

कालीसिंध ने टी 10 टूर्नामेंट पर किया कब्जा

51 हजार का चेक और ट्राफी भेंट
उप विजेता टीम को 31 हजार भेंट
शिप्रा और चंबल को 11 11 हजार भेंट
उज्जैन. ये खेल ही कुछ ऐसा है, जो पिच डट गया वहीं चैम्पियन कहलाता है ! और रविवार की सुबह भी कुछ ऐसा ही हुआ। ब्लाइंड क्रिकेट के टी-10 टूर्नामेन्ट में कालीसिंध चैम्पियन कहलायी। देवी अहिल्या बाई खेल परिसर के ग्राउंड पर चले इस मैच को जिसने भी देखा चौक उठा,क्यों की क्रिकेट की टीम के सारे खिलाड़ी दृष्टिबाधित थे। मैच में हर गेंद पर कुछ अलग से शॉट देखने को मिले। 
15219876930.jpeg
कालीसिंध को 51 हजार का चेक और ट्राफी भेंट 
पॉलीटेक्निक कॉलेज में चले मैच के बाद विजयी टीमों को समारोहपूर्वक पुरस्कार वितरित किए। समारोह के मुख्य अतिथि एडीजी व्ही.मधुकुमार एवं विशेष अतिथि डीआईजी डॉ.रमणसिंह सिकरवार,कलेक्टर संकेत भोंडवे ने विजेता टीम कालीसिंध को 51 हजार रूपए का चेक और ट्राफी भेंट की। गई।
15219876931.jpeg
उप विजेता टीम गंभीर को 31 हजार रूपए और ट्राफी तथा प्रोत्साहन पुरस्कार में टीम शिप्रा एवं टीम चंबल को 11-11 हजार रूपए का चेक प्रदान किया। वहीं भारतीय ब्लाइंड टीम के सदस्य सोनू गोलकर को बेस्ट बॉलर का पुरस्कार एवं ट्राफी दी गई। आनन्दक नीतेश की ओर से गोलकर को एक वॉटर प्यूरीफायर भेंट किया गया।

3 करोड़ की लागत से बन रहा है स्टेडियम
पॉलीटेक्निक कॉलेज में देवी अहिल्या महिला खेल परिसर का निर्माण तीन करोड़ की लागत से किया जा रहा है। कलेक्टर संकेत भोंडवे ने बताया कि प्रथम चरण में जी प्लस वन पर दर्शक दीर्घा, वीआईपी गैलरी का निर्माण किया गया है। साथ ही खिलाड़ियों के लिए आवास की सुविधा भी उपलब्ध करवाई गई है। 
15219876932.jpeg
दूसरे चरण में डे-नाइट विजन के लिये 1400-1400 वॉट के चार पोल लगाये जाएंगे। कार्य पूर्ण होने पर यहां रात्रि में मैच खेला जा सकेगा। स्टेडियम का कार्य जून माह तक पूर्ण कर लिया जाएगा। निर्माण कार्य के बारे में हाउसिंग बोर्ड के इंजीनियर विनोद उपाध्याय ने भी विस्तृत जानकारी दी।

दिव्यांगों के सशक्तिकरण की भावना अब समाज से आ रही है – श्री गेहलोत

15219876933.jpeg
केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचन्द गेहलोत ने कहा है कि केन्द्र सरकार की पहल पर दिव्यांगों के सशक्तिकरण के अनेक कार्य किये जा रहे हैं। यही नहीं दिव्यांगों के सशक्तिकरण की भावना अब समाज से भी आ रही है। दिव्यांगजन खेलकूद में भी कम नहीं हैं। पैराओलम्पिक में दिव्यांगों द्वारा पदक जीतना इसका प्रमाण है। उन्होंने कहा कि दिव्यांगजनों की खेलकूद गतिविधियों के लिये नेशनल स्पोर्ट सेन्टर की स्थापना देश के विभिन्न तीन स्थानों में की जा रही है। इनमें मध्य प्रदेश का ग्वालियर भी शामिल है। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि दर्शकों को भी खेलकूद को प्रोत्साहन देना चाहिये एवं हार-जीत को खेल भावना से लेना चाहिये। 
15219876934.jpeg
5 महिला खिलाड़ियों का किया सम्मान 
कार्यक्रम में केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचन्द गेहलोत ने उज्जैन की पांच महिला खिलाड़ियों को विभिन्न उपलब्धियों के लिये सम्मानित किया। सम्मानित होने वाली खिलाड़ियों में तैराकी में 14 पदक प्राप्त करने वाली मनस्विता तिवारी, मल्लखंब में राष्ट्रीय स्तर पर उल्लेखनीय सफलता अर्जित करने वाली वैष्णवी कहार, कुश्ती में राष्ट्रीय शालेय प्रतियोगिता में कांस्य पदक प्राप्त करने वाली सोनम खान, राष्ट्रीय साफ्टबाल प्रतियोगिता में पदक प्राप्त करने वाली बरखा सोलंकी तथा मध्य प्रदेश अण्डर 19 क्रिकेट टीम में प्रतिनिधित्व करने वाली पायल राठौर शामिल है।

Latest News

Top Trending

Connected sports

  • Sports Connect


  • Gumanpura kota