Top Connect

11 दिन लेट खुलेंगे केदारनाथ के कपाट

अक्षय तृतीय के दो दिन बाद खुलते है कपाट
ग्रह नक्षत्रों के योग ने 11 दिन किया लेट
उखीमठ में पंडितों द्वारा तय की गई ति​थि
उज्जैन. वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीय 18 अप्रैल को अक्षय तृतीय का महासंयोग बन रहा है। इसी दिन से चार धाम की यात्रा शुरू हो जाएगी। अक्षय तृतीय के शुभ संयोग में गंगोत्री और यमनोत्री के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खुल जाएंगे।लेकिन कुछ ऐसे संयोग भी बन रहे है कि इस दिन के केदारनाथ और बद्रीनाथ के कपाट नहीं खुलेंगे। 

आपको बता दे कि इस बार चित्रा नक्षत्र में वैशाख शुक्ल चतुर्दशी 29 अप्रैल को केदारनाथ और वैशाख पूर्णिमा यानी बुद्ध पूर्णिमा 30 अप्रैल को बद्रीनाथ के कपाट खोले जाएंगे। जबकि आमतौर पर अक्षय तृतीया के दो-तीन दिन बाद केदारनाथ और इसके अगले दिन बदरीनाथ के कपाट खुल जाते हैं।

अक्षय तृतीया से लंबे अंतराल पर केदारनाथ और बदरीनाथ के कपाट खुलने के कारणों के बारे में बदरीनाथ मंदिर के मुख्य धर्माधिकारी भुवन उनियाल बताते हैं कि यमुनोत्री एवं गंगोत्री के कपाट अक्षय तृतीया के अवसर पर खोले जाने की परंपरा है। लेकिन बद्रीनाथ मंदिर के कपाट खोले जाने की तिथि बसंत पंचमी के मौके पर टिहरी के पूर्व राजाओं के महल में तय होती है, इसकी कोई निश्चित तिथि नहीं है। राजपुरोहितों द्वारा लग्न निकाले जाते हैं। इसमें सामान्यतः वैशाख माह की उपयुक्त तिथि देखी जाती है। पूर्व राजा की सहमति से निकाले गए दिनों में से शुभ दिन तय किया जाता है।

केदारनाथ के कपाट खुलने की तिथि केदारनाथ के रावल के निर्देशन में उखीमठ में पंडितों द्वारा तय की जाती है। इसमें सामान्य सुविधाओं के अलावा परंपराओं का ध्यान रखा जाता है। यही कारण है कि कई बार ऐसे भी मुहूर्त भी आए हैं जिससे बद्रीनाथ के कपाट केदारनाथ से पहले खोले गए हैं। जबकि आमतौर पर केदारनाथ के कपाट पहले खोले जाते हैं।

Latest News

Top Trending

Connected sanatandharm

  • Sanatandharm Connect