Top Connect

कही आपकी राशि में तो वक्री नहीं हो रहे शनिदेव

142 दिन तक शनि देव रहेंगे वक्री
जातकों की राशि पर ये रहेगा प्रभाव
गुरु और शनि में है समता का भाव
उज्जैन.लंबे समय बाद शनिदेव अपनी टेढ़ी चाल के साथ 142 दिन तक वक्री रहेंगे। गुरु की राशि धनु में वक्री होने से इसका प्रभाव आमजन पर कम ही रहेगा। जिस राशि में शनि अबतक थे,उसी राशि में वक्री होने से अन्य राशियों पर ज्यादा प्रभाव नहीं देखने को मिलेगा। 

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार न्याय के देवता शनि किसी भी राशि में वक्री हो जाते है तो उक्त राशि के जातकों को शारीरिक कष्ट, आर्थिक परेशानियां, विभिन्न रोग आदि से परेशान करते है। आपको बता दे कि 18 अप्रैल की सुबह 7.17 बजे शनि वक्री गती से चलेंगे और इस दौरान वे धनु राशि में रहेंगे। 6 सितंबर की दोपहर 4.40 मिनट पर मार्गी होते हुए वे राजनीतिक टकराव,महंगाई, भयंकर रोग, प्राकृतिक प्रकोप का संदेश देंगे। 

गुरु और शनि में है समता
धनु राशि गुरु की राशि है और गुरु और शनि में समता भाव हैं दोनों का मिलाजुला मामला है। इसके चलते जातकों की राशि पर इसका प्रभाव कम रहेगा। फिलहाल वृश्चिक, धनु और मकर राशि पर साढ़े साती का प्रभाव रहे्गा। वहीं वृषभ और कन्या शनि के ढैया का प्रभाव देखा जा सकता है। 

इन राशियों पर देखने को मिलेगा शुभ अशुभ प्रभाव 
पंचागीय गणाना के अनुसार मेष, मिथुन,तुला व मीन राशि के जातकों पर शनि के वक्री होने से शुभ प्रभव होगा। यानी शनि इन राशि के जातकों को शुभ फल प्रदान कर सकते है। वहीं वृश्चिक,मकर, वृषभ और कन्या राशि के जातकों को इस समय संभल कर चला चाहिए,क्यों की इस समय इनके लिए अशुभ संदेश दे रहा है। कर्क,सिंह और धनु राशि की बात करें तो शनि का वक्री होना इनके लिए मिश्रित फल प्रदान करेगा। 

Latest News

Top Trending

Connected astro

  • Astrologer connect


  • Mangalam Chmaber Main Market Kota