Top Connect

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने रखी नई कार्य-संस्कृति की नींव

निवेश के लिए विश्वास का वातावरण
शासकीय भूमि उपयोग का अधिकार
ये है राज्य सरकार की 6 माह की उपलब्धियां

भोपाल. कमल नाथ सरकार ने अपने छोटे से कार्यकाल के दौरान कार्य संस्कृति को नए सिरे से परिभाषित और स्थापित किया है। यह संस्कृति योग की है। छह माह में एक जवाबदार-जिम्मेदार सरकार चलाते हुए मुख्यमंत्री कमल नाथ ने सिर्फ काम करके दिखाया है। महंगे समारोहों और स्व-प्रचार का मोह न पालकर उन्होंने यह बताया कि मूल काम जनता की सेवा है। उन्हें सिर्फ काम करना पसंद है।

मध्यप्रदेश में गरिमामय कार्यं संस्कृति की नींव 17 दिसम्बर 2018 को रखी गई जब श्री कमल नाथ ने बतौर मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। वे अनुभवी और उन नेताओं में से एक है, जो विकास और विजन की पहली सीढ़ी चढ़कर अंतिम सीढ़ी तक जाना जानते हैं। खाली खजाने के बीच उन्होंने बहुत शालीनता और खामोशी के साथ बीस लाख किसानों का कर्जा माफ कर दिया। यह उनका पहला वचन था जो उन्होंने मुख्यमंत्री का पद सम्हालते ही पूरा किया। समारोह और यात्राओं से दूर रहकर कमल नाथ जी काम में विश्वास किया। वे आत्म प्रचार से दूर हैं।

राज्य सरकार की 6 माह की उपलब्धियां
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने शपथ ग्रहण करने के दो घंटे के अंदर ही किसानों की कर्ज माफी के महत्वपूर्ण निर्णय पर हस्ताक्षर किए।
जय किसान फसल ऋण माफी योजना में एमपी ऑनलाइन से प्राप्त जानकारी के अनुसार कुल 48.89 लाख ऋण खाताधारी जिनमें से 32.64 लाख चालू ऋण खाता, 15.94 लाख एन.पी.ए./कालातीत ऋण खाते हैं।
मई 2019 तक 9.72 लाख पी.ए. खाते व 10.25 लाख एन.पी.ए. खाते कुल 19.97 लाख खातों के ऋण माफ किए गए। 
15607883940.jpeg
जय किसान समृद्धि योजना में प्रदेश सरकार किसानों का गेहं 2000 रुपये प्रति क्विटंल यानी केंद्र सरकार द्वारा गेहूं के घोषित मूल्य 1840 रुपये प्रति क्विंटल से 160 रुपए अधिक में खरीद रही है। यह लाभ उपार्जन कराने वाले तथा मंडी समितियों में विक्रय करने वाले 18 लाख किसानों को मिलेगा। योजना अंतर्गत 1550 करोड़ रुपए की राशि लाभान्वित किसानों के बैंक खातों में जमा कराई जाएगी।
15607883941.jpeg
मुख्यमंत्री कृषक जीवन कल्याण योजना 
कृषकों की दुर्घटना में अस्थाई या स्थाई अपंगता, मृत्यु एवं अन्त्येष्टि सहायता के लिए 299 हितग्राहियों को सहायता राशि लगभग 9.40 करोड़ रुपए वितरित​ की गई।
15607883942.jpeg
रबी वर्ष 2019 में जय किसान समृद्धि योजना अंतर्गत 
— 2,88,788 किसानों द्वारा 20.71 लाख मैट्रिक टन गेहूं का मंडी समिति में विक्रय किया गया।
— 1 03,500 किसानों द्वारा पंजीयन कराया गया।
— 24,346 किसानों द्वारा 2.32लाख मैट्रिक टन प्याज का मंडी में विक्रय किया गया।
15607883943.jpeg
— फ्लैट भावंतर भुगतान योजना में मक्का फसल हेतु 514.40 करोड़ रुपए की राशि 2,60,735 किसानों के बैंक 
खातों में जमा की गई। 
— इंदिरा गृह ज्योति योजना के तहत 100 यूनिट की खपत करने पर 100 रुपए कर बिल देना होगा। इस योजना 
में सरकार लगभग 2116 करोड़ रुपए की वार्षिक सब्सिडी प्रदान कर रही है। 62 लाख लोग इसका लाभ ले रहे है। 
15607883944.jpeg
इंदिरा किसान ज्योति योजना:
—  योजना के तहत अप्रैल 2019 से वचन पत्र के मुताबिक प्रदेश में 10 हार्स पॉवर तक के कृषि पंपों का आधा बिल किया गया है। इस योजना में 18 लाख हितग्राही इसका लाभ ले रहे हैं।
— इस वर्ष जनवरी से मई माह के बीच कुल 2921 करोड़ यूनिट बिजली का प्रदाय हुआ है, जो कि पिछले साल की तुलना में लगभग 378 करोड़ यूनिट यानी 13 प्रतिशत अधिक है।
15607883945.jpeg
 मुख्यमंत्री कन्या विवाह,/निकाह योजना: 
— योजना के तहत अनुदान राशि 28,000 रुपए से बढ़कर 51,000 रुपये की गई 
— दिव्यांग महिला और सामान्य पुरुष के बीच विवाह को बढ़ावा देने हेतु प्रोत्साहन राशि बढ़ाकर 2 लाख की गई 
15607883946.jpeg
— राज्य सरकार ने पिछड़े वर्ग के आरक्षण को बढ़ाकर 27 प्रतिशत करने का निर्णय लिया है। 
— समान्य वर्ग के आर्थिक रुप से दुर्बल नागरिकों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान लागू किया। 
15607883947.jpeg
 युवा स्वाभिमान योजना :
— योजना के माध्यम से युवाओं को 100 दिन के रोजगार की गारंटी, हर महीने 4,000 रुपए स्टाइपेंड और कौशल विकास का प्रशिक्षण मिलना प्रारंभ हो चुका है। इससे प्रदेश के 6 लाख 50 हजार या लाभान्वित हो रहे हैं।
— योजना में 3 लाख 93 हजार 168 युवाओं का पंजीयन किया जा चुका है, तथा कुल 17 हजार 152 युवाओं को कौशल प्रशिक्षण आरंभ किया जा चुका है।  




Latest News

Top Trending

Connected citizen bhopal

  • Bhopal-DPRO-BHOPAL